Download PDF
Back to stories list

खलाई पौधो से बात करती है Khalai talks to plants Khalai parle aux plantes

Written by Ursula Nafula

Illustrated by Jesse Pietersen

Translated by Tanvi Sirari

Language Hindi

Level Level 2

Narrate full story

Autoplay story


ये खलाई है। ये सात साल की है। इसकी भाषा लुबुकुसु में इसके नाम का मतलब है, “एक अच्छी इंसान”।

This is Khalai. She is seven years old. Her name means 'the good one' in her language, Lubukusu.

Voici Khalai. Elle a sept ans. Son nom signifie « celle qui est bonne » dans sa langue, le lubukusu.


खलाई जाग कर संतरे के पेड़ से बात करती है। “कृपया खूब बढ़ो अौर हमे बहुत सारे पके संतरे दे दो।”

Khalai wakes up and talks to the orange tree. "Please orange tree, grow big and give us lots of ripe oranges."

Khalai se réveille et parle à l'oranger. « S'il-te-plais oranger, grandis et donne-nous beaucoup d'oranges mûres. »


खलाई विद्यालय चलकर जाती है। रास्ते में वो घास से बात करती है। “कृपया घास, हरी-भरी हो जाना अौर सूखना मत।”

Khalai walks to school. On the way she talks to the grass. "Please grass, grow greener and don't dry up."

Khalai marche à l'école. En chemin, elle parle à l'herbe. « S'il-te-plais herbe, deviens plus verte et ne sèche pas. »


खलाई जंगली फूलो के पास से गुजरती है। “कृपया फूलो खिलते रहना ताकि मै तुम्हे अपने बालो में लगा सकूँ।”

Khalai passes wild flowers. "Please flowers, keep blooming so I can put you in my hair."

Khalai passe des fleurs sauvages. « S'il-vous-plais fleurs, continuez à fleurir pour que je puisse vous porter dans mes cheveux. »


विद्यालय में, खलाई आँगन के बीच में लगे पेड़ से बात करती है।”कृपया पेड़, अपनी शाखाअो को बड़ी करो ताकि हम तुम्हारी छाया के नीचे पढ़ सके।”

At school, Khalai talks to the tree in the middle of the compound. "Please tree, put out big branches so we can read under your shade."

À l'école, Khalai parle à l'arbre au centre du camp. « S'il-te-plais arbre, fais pousser des grandes branches pour que nous puissions lire sous ton ombre. »


खलाई अपने विद्यालय के चारो ओर लगी बाड़ से बात करती है। “कृपया ताकतवर बनो और बुरे लोगो को अँदर अाने से रोको।”

Khalai talks to the hedge around her school. "Please grow strong and stop bad people from coming in."

Khalai parle à la haie qui entoure son école. « S'il-te-plais, pousse avec puissance et empêche les personnes méchantes d'entrer. »


जब खलाई विद्यालय से वापस घर आयी, तब वो संतरे के पेड़ से मिली। “क्या तुम्हारे संतरे पक गये है?” खलाई ने पूछा।

When Khalai returns home from school, she visits the orange tree. "Are your oranges ripe yet?" asks Khalai.

Quand Khalai retourne chez elle de l'école, elle visite l'oranger. « Est-ce que tes oranges sont mûres ? » demande Khalai.


“संतरे अभी भी हरे है,” खलाई ने आह भरते हुए कहा। “मैं तुमसे कल मिलूँगी संतरे के पेड़,” खलाई बोली। “शायद तब तुम्हरे पास मेरे लिये एक पका संतरा होगा!”

"The oranges are still green," sighs Khalai. "I will see you tomorrow orange tree," says Khalai. "Perhaps then you will have a ripe orange for me!"

« Les oranges sont encore vertes, » soupire Khalai. « Je te verrai demain oranger, » dit Khalai. « Peut-être demain tu auras une orange mûre pour moi ! »


Written by: Ursula Nafula
Illustrated by: Jesse Pietersen
Translated by: Tanvi Sirari
Language: Hindi
Level 2
Source: Khalai talks to plants from African Storybook
Creative Commons License
This work is licensed under a Creative Commons Attribution 4.0 International License.
Options
Back to stories list Download PDF